बिहार : 84 साल के बुजुर्ग ने 11 दफे ले ली कोरोना की वैक्सीन, जानिए ऐसा क्यों हुआ

MADHEPURA : देश में तेजी के साथ कोरोना की तीसरी लहर आगे बढ़ रही है। कोरोना की वैक्सीन लेने के लिए लगातार सरकार जागरूकता अभियान चला रही है। बड़ी तादाद में लोगों ने वैक्सीन लिया भी है लेकिन इसके बावजूद अब तक वैक्सीन नहीं लेने वाले लोगों की संख्या भी कम नहीं है। बिहार में कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। मधेपुरा जिले के रहने वाले एक बुजुर्ग ने एक या दो नहीं बल्कि पूरे 11 बार कोरोना क्या वैक्सीन लगवाया है। 84 साल के बुजुर्ग का नाम ब्रह्म देव मंडल है।

ब्रह्म देव मंडल मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज अनुमंडल के रहने वाले हैं। उनके गांव का नाम ओराय है। 11 दफे कोरोना की वैक्सीन के पीछे ब्रह्म देव मंडल का अपना ही तर्क है। उनके मुताबिक उन्हें कोरोना का टीका लेने से कई तरीके से राहत मिला है। उनको तरह-तरह की परेशानियां थी लेकिन जैसे-जैसे वह वैक्सीन लेते गए उनकी सभी परेशानियां दूर होती गई।

ब्रह्म देव मंडल ने 13 फरवरी 2021 को पहली बार कोरोना वैक्सीन लिया था। उन्होंने पुरैनी स्थिति पीएचएससी में टीका लगवाया था। दूसरी बार उन्होंने 13 मार्च को इसी पीएचसी में टीका लिया। तीसरा डोज 19 मई को ब्रह्म देव मंडल ने और ओराय उप स्वास्थ्य केंद्र में जाकर लिया। इसके बाद उन्होंने चौथा डोज भूपेंद्र भगत के कोटा में लगे शिविर के दौरान लिया।

24 जुलाई को पांचवा डोज एक स्कूल में लगे कैंप में और छठा डोज 31अगस्त को नाथ बाबा में लगे शिविर में लिया। सातवां डोज 11 सितंबर को बड़ी हाट स्कूल पर आठवां डोज भी इसी स्कूल पर 22 सितंबर को लिया जबकि नोवाडेज 24 सितंबर को और दसवां डोज खगड़िया जिला के परबत्ता में लिया। इतना ही नहीं ब्रह्म देव मंडल ने 11वां डोज भागलपुर के कहलगांव में लगवाया।

ब्रह्म देव मंडल ने जिस तरह 11 बार वैक्सीन इन लेने का दावा किया है उसे देखते हुए अब सरकार के सिस्टम पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं आखिर एक व्यक्ति दो से ज्यादा बार टीका कैसे लगवा सकता है जब स्वास्थ्य विभाग में आधार कार्ड के जरिए ही रजिस्ट्रेशन और वैक्सीनेशन का सिस्टम बना रखा है ब्रह्मदेव मंडल 84 साल के हैं वह डाक विभाग में नौकरी करते थे रिटायरमेंट के बाद अपने गांव पर ही रहते हैं उन्होंने एक 11 दफे जो डोज ली है उसका पूरा डिटेल पास रखा हुआ है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *